ETV News 24
Other

प्रशासन व भु-माफियायाओं के मिलीभगत से किया गया धान का फसल बर्बाद: माले

प्रशासन व भु-माफियायाओं के मिलीभगत से किया गया धान का फसल बर्बाद: माले

बेतिया/बिहार

भू-माफियाओं द्वारा न्यायालय की आंखों में धूल झोंक कर प्रशासन के साठ-गांठ से भूमि के मालिकाना हक संबंधी विवाद को विधि व्यवस्था संबंधी विवाद में बदल दिया जा रहा है और उस आधार पर जिला प्रशासन को गरीबों की बेदखली का औजार बना दिया गया है, जिसके विरोध मे आज सैकड़ो भाकपा माले कार्यकर्ताओं ने पोखरा चौक से प्रतिरोध मार्च निकाला जो शहर के मुख्य मार्ग होते हुए भगत सिंह चौक पहुँचा और सभा में तब्दील हो गया, प्रतीरोध सभा को संबोधित करते हुए भाकपा माले नेता मुखतार मियां ने आगे कहा कि सिरपुर,मैनाटाड,बेलवा टोला में दलितों के 40 एकड़ धान की फसल को जिला प्रशासन द्वारा बर्बाद किया गया है वह जमीन योगापटटी के अनुपस्थित बड़े भूपति विनोद प्रसाद पिता पारस प्रसाद की 116 एकड़ जमीन थी जिस पर लंबे समय से सेलिंग वाद चलता आ रहा था, इस बीच भूपति और उसके सगे संबंधियों द्वारा उक्त सेलिंग से फाजिल 44 एकड़ जमीन को 24 माफियाओं से जुड़े लोगों के नाम जमीन की रजिस्ट्री कर दी गयीं जो कानून गलत है। फिर रजिस्ट्री के दस्तावेज के आधार पर एक भूमाफिया जवाहर साह के द्वारा पटना उच्च न्यायालय में जमीन पर मालिकाना हक काम करने के लिए सिविल रिट सी डब्ल्यू जे सी नंबर 2496/2015 दर्ज कराया गया। लेकिन उस सिविल रिट सी डब्ल्यू जे सी नंबर 2496/ 2015 को वापस लेकर माननीय न्यायाधीश ज्योतिष शरण के न्यायालय से 26-03-15 को उसे क्रिमिनल रीट में बदलने का आदेश कराया गया। जिसके तहत क्रिमिनल रिट सी डब्ल्यू जे सी 426/5 2015 जवाहर प्रसाद समेत 24 जमीन रजिस्ट्री कराने वाले लोगों द्वारा प्रधान सचिव गृह विभाग जिला पदाधिकारी आरक्षी अधीक्षक समेत सात अधिकारियों एवं 30 वर्षों से अधिक समय से शांति पूर्वक जमीन जो फसल उपजारहे हैं गरीबों में से 14 लोगों पर किया गया। फिर क्रिमिनल रिट सी डब्ल्यू जे सी नंबर 426/2015 को भी जिला सुरक्षा समिति के पास भेजने का आदेश 4-3-2016 को कराया गया, जहां मंत्री- भूमाफिया गठजोड़ ने सत्ता के प्रभाव का इस्तेमाल कर गरीबों को बेदखल करने का आदेश कराया। इन भू-माफियाओं द्वारा न्यायालय की आंखों में धूल झोंक कर भूमि के मालिकाना हक संबंधी विवाद को विधि व्यवस्था संबंधी विवाद में बदल दिया गया और उस आधार पर जिला प्रशासन को गरीबों की बेदखली का औजार बना दिया गया। इस मामले में ताजा घटनाक्रम में गरीबों पर भू माफिया गिरोह से जुड़े एक व्यक्ति रामाधार महतो द्वारा बिल्कुल ही झूठा मुकदमा 10 नवंबर 19 को मैनाटाड थाना कांड संख्या 91/2019 दर्ज कराया गया, जिसे उसी दिन नरकटियागंज आरक्षी उपाधीक्षक द्वारा सत्य करा दिया गया और गरीबों पर वारंट निर्गत करने का आदेश दिया गया। मुकदमा गरीबों पर जमीन रजिस्ट्री कराने वाले की फसल लूट का हुआ है। जबकि अगल-बगल के बासियों गांव के हजारों हजार लोग जानते हैं कि गरीब अपनी लगाई गई फसल ही काटते हैं, विगत 2 सालों में गरीबों को जमीन से बेदखल करने के लिए बासियों को झूठे मुकदमे किए गए हैं। ताकि गरीब अपने लगाई फसल की लूट और जमीन से बेदखली का विरोध नहीं कर सके, जमीन से बेदखल करने की प्रक्रिया को आगे बढ़ाते हुए 16नवमंर 2019 को भारी पुलिस बल और भू-माफिया गिरोह के लोगों की संयुक्त कार्रवाई में गरीबों की लगाई गई धान की फसल की लूट करने, उसे दर्जनों ट्रैक्टरों द्वारा जो जोतवा कर तहस- नहस करने का काम किया गया है। वहीं प्रतिरोध सभा मे माले नेता लालजी यादव ने कहा कि अंग्रेजी राज में भी इस तरह की बेदखली का उदाहरण शायद नहीं है। माले नेताओं ने मांग करते हुए कहा कि
1.सीडब्ल्यूजेसी 424 43 2016 के आदेश की गलत व्याख्या कर पश्चिम चम्पारण जिला सुरक्षा समिति के द्वारा गरीबों की बेदखली की कार्रवाई पर रोक लगाई जाए। पश्चिमी चम्पारण जहां सीलिंग से फाजिल 1 लाख एकड़ से अधिक जमीन सामंती इसटेटो, चीनी मिलों के पास गैरकानूनी रूप से है, जिसे हजारों एकड़ जमीन पर न तो राजस्व विभाग और उच्च न्यायालय में अब कोई विवाद है वैसी जमीन पर भी जिला सुरक्षा समिति गरीबों का अधिकार बहाल नहीं कर सकी है। यह गरीबों के साथ भारी अन्याय है।

  • उक्त जमीन से संबंधित 13 मई 2013 के जिला समग्रता के गजट के अनुसार घोषित 40 एकड़ जमीन का पर्चा गरीब दलितों में वितरण किया जाए।
  • 10 नवंबर को सिरपुर, मैनाटाड,बेलवा टोला गांव के दलितों गरीबों पर झूठे मुकदमे मैनाटांड़ कांड संख्या 91/19 का एक दिन में ही प्रर्वेक्षण पूरा कर कागजी खानापूर्ति में मुकदमे सत्य करार देने वाले उपाधीक्षक और मैनाटाड थाना अध्यक्ष की अपराधियों से सांठगांठ की भी जांच हो और गरीबों पर झूठा मुकदमा करने के लिए निलंबित किया जाए।
  • जो जमीन बोयेगा वह काटेगा जो इस नियम कानून के विरोध सिरपुर में गरीबों की लगाई गई फसल को लूटने व खेत जोत कर नष्ट करने कराने वाले दोषी पदाधिकारियों व माफिया गिरोहों से जुड़े लोगों पर कानूनी कार्रवाई हो।
  • पूरे बिहार में गरीबों की हो रही बेदखली पर रोक लगाई जाए और भूमि सुधार कानून लागू किया जाए। इस मौके पर माले नेता नजरें आलम,सीताराम राम, अच्छेलाल राम, लालजी यादव,यासिर अरफ़ात के साथ सैकड़ों की संख्या में लोग मौजूद रहे।

Related posts

टिकारी हनुमान मंदिर में जुटी भक्तों की भीड़

admin

रैली के माध्यम से फिटनेस के प्रति लोगों में फैलाई गई जागरूकता

admin

जब्त कार केसरिया के पर्यटक भवन में कैसे पहुंची, जब्त कार का उपयोग करते हैं पदाधिकारी

ETV NEWS 24

Leave a Comment