ETV News 24
देश बिहार मधुबनी

उग उग हो सुरुज देव भईल बा अरधिया के बेर

(बादल हुसैन)
जयनगर मधुबनी लोक आस्था का महापर्व छठ के रंग से पूरे बिहार में बहार देखी गई ।सुदूर गांवो से लेकर राजधानी तक छठ पर्व की रौनक से अमीर गरीब हर वर्ग का जीवन रोशन हो रहा है।लोग पूरी श्रद्धा भक्ति आस्था और उमंग से पर्व को मना रहे है।सूर्य उपासना का पर्व छठ पूजा का अंतिम दिन प्रातः बेला की अधर्य शनिवार को बरही गंगा छठ घाट पर व्रति घंटो पानी में खडे रहकर उगते हुए सूर्य की आरधना की।कथा वाचिका सोनिता देवी,उषा कुमारी,अनुपम कुमारी,ममता ठाकुर,सान्ध्या कुमारी,ज्योति कुमारी,ने बताया की इस दिन ओर दिन की उपेक्षा इस दिन सूर्य थोडा विलंब से निकलता है।यह परंपरा दोपद्री के समय से चलता आ रहा है।छठ व्रती अपने पूजा में लीन रहती है।इस दोरान महिलाएं पारंपरिक गीत उग उग हो सुरुज देव भईल बा अरधिया के बेरःगाते हुए सूर्य की आरधना करती है।इस गीत के माध्यम से व्रति सूर्य भगवान को दर्शन देने के लिए विनती की।सूर्य देव को अधर्य अर्पण करने के बाद व्रति सुहागिन महिलाओ को सिंदूर लगाकर अपने सुहाग के लिए लंवी उम्र की कामना की।उसके पश्चात प्रसाद वितरण किया।वही प्रारंपरिक छठ गीतों की ध्वनि सुनाई दी।जिसमें केरवा के पात पर उगेलें सुरुज देव झांक झुंक ,कांच ही बांस के बहंगिया,बहंगी लचकत जाय,व पहिले पहिले छठी हम कईनी छठी मईया व्रत तौहार जैसे गीत खूब सुनने को मिले।डूबते सूर्य को अधरय देने के लिए उठे हजारो हाथ।

Related posts

पूर्व पैक्स अध्यक्ष के निधन पर शोक की लहर

ETV News 24

छठ पूजा में घाट पर नहाना मना, बिहार सरकार ने जारी की गाइडलाइन

ETV News 24

जीविका दीदियों के द्वारा बनाई गई माक्स एफनी पंचायत मुखिया द्वारा ग्रामीणों के बीच वितरण किया जा रहा है — माक्स

ETV News 24

Leave a Comment